ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
गांधी जयंती पर राजघाट जायेगे विजय सिंह
September 30, 2019 • एडिटर

Press note
मास्टर विजय सिंह 2 अक्टूबर को दिल्ली राजघाट पर करेंगे उपवास।
 मुजफ्फरनगर। पिछले 24 सालों से भ्रष्टाचार व भूमाफियाओं के खिलाफ धरने पर बैठे  मास्टर विजय सिंह 2 अक्टूबर दोपहर 2 बजे वीआईपी कार्यक्रम के बाद दिल्ली स्थित अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी जी की समाधि राजघाट पर उपवास रखेंगे।
मास्टर विजय सिंह एक अक्टूबर को शिव चैक से शामली, बागपत होते हुए 2 अक्टूबर दोपहर दो बजे राजघाट महात्मा गांधी जी की समाधि पर पहुंच कर महात्मा गांधी जी समाधि पर पुष्प अर्पित कर सांकेतिक उपवास रखेंगे। यात्रा के दौरान शामली व बागपत जनपदों में जहां भी स्वतंत्रता सेनानी और महापुरुषों की प्रतिमाओं पर पुष्प अर्पित करेंगे। इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य गांधी जी के अहिंसावाद का प्रचार-प्रसार करना तथा भ्रष्टाचार वह भूमाफिया विरोधी आंदोलन को जन जन तक पहुंचाना है। उन्होंने कहा कि देश महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है। महात्मा गांधी के मुख्य मुद्दे जैसे अहिंसात्मक सत्याग्रह ,स्वच्छता अभियान, ग्राम स्वराज, अछूतोद्वार थे जिनसे लोग भटकते जा रहे हैं। आज छोटे-छोटे मामलों को लेकर लोग हिंसक होकर सरकारी सम्पत्तियों में तोड़ फोड कर आगजनी कर रहे हैं। जाम लगा रहे हैं। अभद्र भाषा प्रयोग कर रहे हैं। लोग भ्रष्टाचार कर भूमाफियाओं को संरक्षण दे रहे है तथा सार्वजनिक सम्पत्ति को कब्जा रहे हैं। यह सब महात्मा गांधी के सिद्वान्तों के खिलाफ है। जिससे लोग अपनी और राष्ट की हानि कर रहे हैं। हम महात्मा गांधी जी के बताए गए सिद्वान्तों को अपनाए और अपने मुद्दे अहिंसात्मक ढंग से लडाई लडें। क्योंकि हिंसा से कोई लडाई नहीं जीती जा सकती। हिंसा से हर आन्दोलन का अंत हो जाता है। 
गौरतलब है कि मास्टर विजय सिंह पिछले 24 सालों से भ्रष्टाचार व भूमाफियाओं के खिलाफ अहिंसात्मक सत्याग्रह और धरने पर बैठे हैं। उनकी लडाई 24 सालों में अहिंसात्मक रही। 24 साल के दौरान उनके आन्दोलन मेें कोई हिंसा नही हुई। उनका जीवन निर्विवाद है। उनका जीवन गांधीवाद से प्रेरित है और वे गांधी के मार्ग पर ही अग्रसर हैं। 24 सालों से वे बहुत ही शालीनता के साथ यह सत्याग्रह के मार्ग पर चलकर मुजफ्फरनगर में अपना जीवन बिताया। कई बार कचहरी में असामान्य स्थिति होने पर भी उन्होंने कोई प्रतिरोध नहीं किया। भले ही उन्हें कचहरी से धरना हटवाना हो या अस्पताल में उनके साथ हुआ अन्याय हो।दो दिन शिव चैक धरना स्थल पर उनके साथी धरने पर रहेंगे 3 तारीख को वापस मुजफ्फरनगर धरना स्थल पर आ जाएगे ।