ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
बिजनोर से पकड़ा गया देहरादून की हाई प्रोफाइल लूट का सरगना
October 3, 2019 • एडिटर

 

देहरादून :  बीती रात्रि समय करीब 10: 30 बजे आर0पी0 ईश्वरम निवासी मसूरी रोड निकट मैक्स अस्पताल देहरादून द्वारा थाना राजपुर पर सूचना दी गयी कि चार हथियारबन्द लोगों द्वारा उन्हें व उनके परिवार को घर पर बन्धक बनाकर उनके घर से नकदी, ज्वैलरी व अन्य सामान लूट कर ले गये है ।
उक्त सूचना पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून व अन्य उच्चाधिकारीगण मौके पर पहुंचे तथा घटना स्थल का निरीक्षण कर घटना के अनवारण हेतु पुलिस अधीक्षक नगर के नेतृत्व में पुलिस टीमों का गठन किया गया, गठित टीमों द्वारा किये गये अथक प्रयासों से दिनाँक 30-09-19 को घटना में सम्मिलित चार अभियुक्तों विरेन्द्र सिंह उर्फ ठाकुर साहब, मौ0 अदनान, मुजिब्बुर्रहमान उर्फ पीरू तथा फुरकान को लूटी गयी 11 लाख 69 हजार 500 रूपये की नकदी एवं ज्वैलरी तथा दिनाँक: 01-10-2019 को फिरोज पुत्र शहाबुद्दीन को घटना में लूटी गयी रूपये 50000/- की नकदी, ज्वैलरी व घटना में प्रयुक्त बीट कार के साथ गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।
गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ करने पर घटना में तीन अन्य अभियुक्तों हैदर अली पुत्र इस्लामुद्दीन निवासी महदूदगांव नूरपुर, थाना चांदपुर, जिला बिजनौर, उत्तर प्रदेश फईम पुत्र शहाबुद्दीन निवासी रघुवीर नगर, नई दिल्ली व मिश्रा नाम/पता अज्ञात का सम्मिलित होना ज्ञात हुआ। जिस पर पुलिस टीमों द्वारा उक्त अभियुक्तों के सम्भावित स्थानों पर लगातार दबिशें दी जा रही थी। दिनाँक 02-10-2019 को पुलिस टीम को जरिये मुखबिर सूचना मिली कि घटना में सम्मिलित एक अभियुक्त हैदर वर्तमान में बिजनौर उत्तरप्रदेश में है तथा वहां से भागने की फिराक में है। उक्त सूचना पर पुलिस टीम द्वारा अभियुक्त हैदर को नूरपुर बिजनौर हाईवे पर खासपुरा तिराहे से गिरफ्तार किया गया, मौके पर अभियुक्त की जामा तलाशी लेने पर अभियुक्त के कब्जे से घटना में लूटी गयी नकदी, ज्वैलरी व अन्य सामान बरामद हुआ।
पूछताछ में अभियुक्त हैदर द्वारा बताया गया कि पहले मैं दिल्ली में बेकरी का कार्य करता था, वर्ष 2015 में उसके परिचित तिलकराज के माध्यम से मेरी पहचान विरेन्द्र सिंह उर्फ ठाकुर साहब उर्फ डीआईजी से हुई थी, उसके पश्चात् ठाकुर साहब का अक्सर मेरे यहां आना जाना लगा रहता था, वह मुझे अपने दत्तक पुत्र की तरह मानता था तथा मैं उसके साथ उसके घर पर ही रहता था, पूर्व में भी मेरे द्वारा ठाकुर साहब के साथ मिलकर कई घटनाओं को अंजाम दिया गया है।
देहरादून में हुई लूट की घटना की योजना भी विरेन्द्र सिंह उर्फ ठाकुर साहब द्वारा बनायी गयी थी। उक्त बरामदा ज्वैलरी व रूपये उसी लूट की घटना के है, जिसे विरेन्द्र सिंह उर्फ ठाकुर साहब व मेरे द्वारा हमारे अन्य साथियों अदनान, फईम, मिश्रा, पीरू व फुरकान के साथ मिलकर दिनाँक: 22-09-2019 की रात्रि में मसूरी रोड देहरादून स्थित एक बडी कोठी से की गयी थी, जिसकी रैकी ठाकुर साहब द्वारा पीरू व फुरकान से करायी गयी थी, लूट की घटना को अंजाम देने के लिये हम बीट गाडी से देहरादून आये थे तथा घटना को अंजाम देने के बाद हम दिल्ली वापस चले गये थे।

लूट की घटना मे प्राप्त नकदी को हमारे द्वारा रास्ते में आपस में बांट लिया था तथा दिल्ली पहुंचने पर हमारे द्वारा कुछ ज्वैलरी को बेचकर उससे प्राप्त रूपयों व बची हुई ज्वैलरी को भी आपस में बाट लिया गया था, दो दिन पहले मुझे जानकारी मिली कि देहरादून पुलिस द्वारा विरेन्द्र सिंह उर्फ ठाकुर साहब व मेरे कुछ साथियों को पकड लिया गया है तो मैं अपने हिस्से में आयी लूटी गयी ज्वैलरी को बेचकर उससे प्राप्त रूपयों व बची हुई ज्वैलरी को लेकर कहीं और भागने की फिराक में था।

हैदर अली पुत्र इस्लामुद्दीन निवासी महदूदगांव नूरपुर, थाना चांदपुर, जिला बिजनौर, उत्तर प्रदेश।

1- एक माला नीले व आसमानी मनके वाली 
2- एक सफेद धातु की चेन
3- एक सफेद धातु की टूटी हुई अंगूठी 
4- तीन सफेद धातु के सिक्के 
5- एक तांबे का सिक्का 
6- एक लाॅकेट सफेद धातु 
7- एक कान का बुंदा सफेद धातु 
8- 09 लाख 65 हजार रुपये नकद

पुलिस टीम:-

1- उप निरीक्षक नरेश राठौर 
2- उप निरीक्षक दीपक धारीवाल 
3- उ0नि0 हर्ष अरोरा, एस0ओ0जी0 देहरादून
4- कां0 1783 अरशद 
5- कां0 1405 गजेन्द्र
6- म0कां0 रश्मि 
7- कां0 देवेन्द्र, कां0 ललित एस0ओ0जी0 देहरादून