ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
बीआईटी आइसुलेशन सेन्टर में रोके गए मजदूरों का घर जाने को लेकर हंगामा
May 6, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • मुज़फ्फरनगर

 

हंगामे की सूचना पर पहुँचे एसपी देहात व सीओ ने हंगामा कर रहे लोगों को समझाकर शांत किया।

रखें गए मजदूरों की कराई गई थर्मल स्कैनिंग।

नईम चौधरी
मीरापुर।  लॉक डाउन के कारण दूसरे राज्यों से पैदल व साइकिल पर सवार होकर अपने घरों को जा रहे मजदूरों को पुलिस द्वारा बीआईटी आइसुलेशन सेन्टर में रखें जाने पर मजदूरों ने अपने घर जाने को लेकर हंगामा किया।सूचना पर एसपी देहात,एसडीएम व सीओ  ने मौके पर जाकर हंगामा कर रहे लोगों को समझा बुझाकर शान्त किया।
कोरोना वायरस के चलते प्रशासन ने मीरापुर क्षेत्र के बीआईटी कॉलेज को आइसुलेशन सेन्टर बनाया हुआ है।जिसमें संदिग्ध कोरोना संक्रमितों के अलावा जनपद में दूसरे राज्य व अन्य जनपद से मुज़फ्फरनगर जनपद में आने वाले लोगों को 14 दिनों के लिए क्वारनटाइन किया गया है।वही लॉक डाउन 3 लागू होने से पूर्व पिछले करीब एक सप्ताह से दूसरे राज्यों में कार्य करने वाले सैकड़ो मजदूर अपने परिवार के साथ पैदल व साइकिल से मीरापुर क्षेत्र से होकर गुजर रहे है।जिन्हें प्रशासन के निर्देश पर पुलिस ने रोककर इसी बीआईटी कॉलेज में यहाँ पहले से क्वारनटाइन किये गए लोगों से अलग रख दिया है।पुलिस बाहर से आ रहे ऐसे मजदूरों को यहाँ 14 दिन के लिए रोक रही है। तथा उनकी थर्मल स्कैनिंग करा रही है।पुलिस प्रशासन ने यहाँ करीब 204 मजदूरों को रखा है।जबकि मजदूर यहाँ रोकने का विरोध कर रहे है।मंगलवार को यहाँ रखें गए सैकड़ो मजदूरों ने अपने घर भेजे जाने को लेकर जमकर हंगामा किया।हंगामे की सूचना पर एसपी देहात नेपाल सिंह व एसडीएम जानसठ कुलदीप मीणा व सीओ जानसठ शकील अहमद, मीरापुर पुलिस के साथ मौके पर पहुँचे और हंगामा कर रहे मजदूरों को समझा बुझाकर शान्त किया।दोनों अधिकारियों ने जल्द ही उन्हें घर भेजे जाने का आश्वासन दिया।तब जाकर मजदूर शांत हुए। मामले पर एसपी देहात नेपाल सिंह ने बताया कि यहाँ रखे गए मजदूर अपने घर भेजे जाने की मांग कर रहे थे।जिन्हें उनकी मांग के अनुसार बसों द्वारा घर भिजवाया जा रहा है।

मजदूरों को रखने में नही रखा जा रहा सोशल डिस्टेसिंग का ध्यान।

मीरापुर-बीआईटी कॉलेज में बनाये गए आइसुलेशन सेन्टर में वैसे तो कोरोना वायरस से बचाव के लिए व लोक डाउन का पालन कराने के लिए दूसरे राज्यो से आने घरों को जा रहे मजदूरों को सुरक्षा की दृष्टि से प्रशासन द्वारा यहाँ जबरन रोका जा रहा है।किन्तु मजदूरों की संख्या अधिक होने के कारण यहाँ अव्यवस्था फैलती दिखाई देने लगी है।मंगलवार को हंगामा कर रहे मजदूरों ने जमकर सोशल डिस्टेसिंग की धज्जियाँ उड़ाई।मजदूरों के बीच यहाँ जरा सी भी सामाजिक दूरी नही दिखाई दी।कुछ मजदूरों के अनुसार यहाँ सोशल डिस्टेसिंग का जरा सा भी पालन नही किया जा रहा है।