ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के अन्तर्गत बालिकाओं के लिए एक 'प्रतिभा खोज'कार्यक्रम के लिये हुए ऑडिशन
February 5, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • मुज़फ्फरनगर

मुज़फ्फरनगर में बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के अन्तर्गत बालिकाओं के लिए एक 'प्रतिभा खोज'कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। बालिकाओं में विद्यमान प्रतिभाओं की खोज के लिए 10 जनवरी, 2020 से विकास खण्डवार आडिशन लिये जा रहे है। इस कडी में आज दिनांक 05.02.2020 दिन बुधवार को कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय, सरकुलर रोड, मुजफ्फरनगर में प्रातः 10ः00 बजे से आडिशन लिये गये, जिसमें विभिन्न विद्यालयो की लगभग 200 बालिकाओ ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। कार्यक्रम में बालिकाओ ने नृत्य, सिंगिंग, नाटक, पेंटिंग, समूह गायन इत्यादि की प्रस्तुति की। शारडेन पब्लिक स्कूल, मुजफ्फरनगर की एक छात्रा द्वारा हारमोनियम पर राष्ट्रीय गान प्रस्तुत किया। प्राथमिक विद्यालय, रुस्तमगढ की छात्राओ ने सेल्फ डिफेंस हेतु लाठी चलाकर दिखायी तथा कुछ छात्राओ ने रिंग घुमाने की प्रस्तुति की। कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय एवं एम0जी0 पब्लिक स्कूल की छात्राओ ने कत्थक एवं योगा नृत्य कर कार्यक्रम में अपनी प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में उपस्थित बालिकाओ को जलपान कराया गया तथा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली बालिकाओ को सेमीफाइनल राउण्ड के लिए चयन किया गया। प्रतिभा खोज कार्यक्रम के सेमीफाइनल फरवरी माह में ही किये जायेंगे तथा फाइनल राउण्ड अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आयोजित होगा। प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने हेतु बालिका की आयु 05 वर्ष से कम न हो तथा 18 वर्ष से अधिक न हो। कार्यक्रम में ऐसी सभी प्रतिभाएं सम्मिलित की गयी है, जिनका मंच पर दिखाया जाना संभव हो। 
   बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना 22 जनवरी, 2015 को माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा हरियाणा के पानीपत से शुरू की गयी थी। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना वर्तमान मंें भारत के 405 जिलो में संचालित है। योजना का मुख्य उद्देशय महिला-पुरुष लिंगानुपात में असमानता को दूर करना है। वर्ष 2015 में योजना के प्रारम्भ होने के बाद से जन्म पर लिंगानुपात की दर में नियमित रूप से वृद्धि हो रही है। जनपद मुजफ्फरनगर में वर्ष 2014-15 में जन्म पर लिंगानुपात की दर (CSR) 889 थी जो वर्ष 2018-19 में बढकर 934 हो गयी है। योजना के अन्तर्गत जनपद मुजफ्फरनगर में विभिन्न प्रकार के जनजागरुकता कार्यक्रम नियमित रूप से कराये जा रहे है, जिनका सकारात्मक परिणाम भी दिखाई दे रहा है।