ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
धोखा धड़ी में फंसी पालिका चेयर पर्सन.पति,पुत्र व क्लर्क
October 19, 2019 • TRUE स्टोरी टीम

,,,,,(अहमद हुसैन)
धोखाधड़ी के आरोप में सरधना नगर पालिका अध्यक्षा पालिका लिपिक अध्यक्ष पति व पुत्र पर कोर्ट ने भी मुकदमा दर्ज कराने के आदेश।चारों के खिलाफ हो सकता है विभिन्न धारा में मुकदमा दर्ज।मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मेरठ ने किए मुकदमे के आदेश,,,,,,,

सरधना नगर पालिका में कालंद निवासी ठेकेदार मोहम्मद लुकमान ने कोर्ट में  प्रार्थना पत्र देते हुए बताया था कि सरधना नगर पालिका में वह पंजीकृत ठेकेदार है। कालन्दस एन्टरप्राईजिज के नाम से नगर पालिका में कई वर्षों से ठेकेदारी करता  मोहम्मद लुकमान ने बताया था कि 29 मई 2018 को सरधना नगर पालिका में निविदा आमंत्रित की गई उसी दिन खोली जानी थी जिसमें उसने कार्य नंबर 5 पर सबसे कम रेट बिड दाखिल की तो लिपिक विपिन कुमार शर्मा ने उससे कुल लागत का 20 प्रतिशत मांगा उसने 20 प्रतिशत देने से इंकार कर दिया जिस पर विपिन कुमार शर्मा ने अपना डीएसए (डूंगल)  लगाकर उसकी पत्रावली चेक की और उसकी हार्ड कॉपी से 548 का डीडी चोरी करके टेक्निकल डिफेक्ट दिखाकर उसको निवेदन से बाहर कर दिया। बिट खुलने से पहले उसे षड्यंत्र का पता चल गया था तो उसने तुरंत कमिश्नर साहब से इस मामले की शिकायत की थी। जिसकी जांच एडीएमई से कराई गई तो वाक्यात सही मिले और कमिश्नर प्रभात कुमार द्वारा तत्काल प्रभाव से विपिन कुमार शर्मा को निलंबित कर दिया गया तथा विपिन कुमार के विरुद्ध थाना सरधना पर प्रथम सूचना रिपोर्ट मुकदमा अपराध संख्या 665/ 2018 धारा 420 217 406 आईपीसी के तहत दर्ज किया गया। जिसके बाद उसके द्वारा किए गए कार्यों का भुगतान रोक लिया गया।  उसने नगर पालिका के खिलाड़ विधिक नोटिस दिया मामला दर्ज होने के बाद विपिन कुमार बौखला गए। जिसके बाद उसके द्धारा किए गए निर्माण कार्यों का भुगतान रोक दिया गया। उसने इस मामले को लेकर माननीय न्यायालय का दरवाजा खटखटाया रिट संख्या 37169/ 2018 दायर की जिसमें न्यायालय ने नगर पालिका को दो माह के भीतर भुगतान करने का आदेश दिया। उसे आगे भुगतान ना हो इसके लिए पालिका लिपिक ने फिर से उसकी पत्रावली से रिवाइज एस्टीमेट की प्रति स्थानीय लोगों द्वारा अध्यक्ष को कार्य बढ़ाने हेतु दिया उसने आरटीआई के तहत सूचना मांगी कि रिवाइज एस्टीमेट की कोपी मांगी गई।  उसकी पत्रावली से जानबूझकर अनुचित लाभ हेतु कागजात चोरी किए गए। जिस पर वादी ने कोर्ट का सहारा लिया और कोर्ट से न्याय की गुहार लगाई। कोर्ट ने थाना अध्यक्ष को आदेशित किया है कि वह सुसंगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर विवेचना प्रचलित करें अनुपालन के उपरांत 24 घंटे के अंदर अनुपालन आख्या न्यायालय को प्रेषित करना सुनिश्चित करें मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के इस आदेश को  सरधना नगर पालिका परिषद कार्यालय में दाखिल किया गया जिसके बाद रिवाइज एस्टीमेट का पार्ट पेमेंट के 436646 रूपया दिनांक 28 मार्च 2018 को दे दिया गया था। व रिवाइज एस्टीमेट से ही आवश्यक करो कि कटौती कर सरकारी कोष में जमा की गई। जिसके बाद उसको आगे का भुगतान ना हो उन्होंने उसकी पत्रावली से रिवाइज एस्टीमेट स्थनीय लोगों द्वारा पालिक अध्यक्ष को कार्य बढ़ाने हेतु दिया गया। प्रार्थना पत्र पीडब्ल्यूडी टाइल्स टेस्टिंग रिपोर्ट जेई द्वारा टाइल टेस्टिंग रिपोर्ट के बाद 2 लाख का भुगतान करने का आग्रह की कॉपी व नोट शीट जिस पर अधिशासी अधिकारी द्वारा 436646 रुपयों का भुगतान किया गया है। चोरी कर लिया उसने 11 अक्टूबर 2018 को जन सूचना अधिकार 2005 के तहत सूचना मांगी कि रिवाइज एस्टीमेट की कॉपी उपलब्ध कराई जाए तो उक्त आरोपियों ने 31 दिसंबर 2018 की सूचना उपलब्ध कराई थी कि रिवाइज स्टीमेट की कॉपी पत्रावली में उपलब्ध नहीं है 24 अक्टूबर 2018 को करीब 2 बजे दोपहर एक ठेकेदार एहतेशाम खान पुत्र कामिल अजीज निवासी सरधना नगर पालिका परिषद कार्यालय अपनी किसी काम के लिए पहुंचा तो अधिशासी अधिकारी की कुर्सी पर बड़ा बाबू विपिन कुमार शर्मा  बैठा था और सामने चेयर पर्सन का पुत्र शाहवेज अंसारी जो अपने हाथ में वही रिवाइज एस्टीमेट की रिपोर्ट लिए बैठा था और लुकमान के भुगतान के संबंध में आपस में बात कर रहे थे कि भुगतान का कुल 20 प्रतिशत  पहले लेकर भुगतान कराने की बात कह रहे थे। इस प्रकरण का जब उसको पता चला तो उसे यकीन हो गया कि उक्त आरोपियों ने कागजात पत्रावली से जानबूझकर अनुचित लाभ प्राप्त करने के उद्देश्य से चोरी किए हैं। यह पूरा प्रकरण उस समय की फोटोग्राफी से कतई अस्पष्ट है। यह पूरा षड्यंत्र चेयरपर्सन सबीला अंसारी पूर्व अध्यक्ष निजाम अंसारी उनके पुत्र शाहवेज अंसारी व लिपिक विपिन कुमार ने मिलकर उस को नुकसान पहुंचाने की गरज से किया गया है।  लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होने पर उसने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। कोर्ट ने अब उक्त आरोपियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत करने का आदेश जारी किया है। उक्त आदेश की भनक लगने के बाद आरोपियों में हड़कंप मच गया है। इस संबंध में जब पालिका अध्यक्षा से बात की गई उन्होंने सभी आपको कुबेर आधार बताते हुए ठेकेदार द्वारा साज़ कर षड्यंत्र में फसाने की बात साथ ही कहा कि मेरे पुत्र शाहवेज को पालिका के किसी कार्य से कोई लेना देना नहीं है ।
-----------