ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
दूसरे राज्यों से पैदल चलकर आ रहे सैकड़ो मजदूरों ने मीरापुर में डेरा डाला
May 8, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • मुज़फ्फरनगर

 

सैकड़ो किलोमीटर पैदल चलकर अपने घर जा रहे मजदूरों को बीआईटी चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने वापिस भगाया।

घर जाने के लिए धक्के खा रहे मजदूरों ने मीरापुर में सड़क किनारे  डेरा डाला। 
नईम चौधरी

मीरापुर। कोरोना के चलते देश मे लागू हुए लॉक डाउन के कारण दूसरे राज्यों में कार्य करने वाले हजारों मजदूर काम छूटने के बाद बेरोजगारी के चलते दिन रात पैदल व साइकिल से चलकर अपने घरों की तरफ जा रहे है।गुरुवार को ऐसे सैकड़ो मजदूरों को मीरापुर थाने की बीआईटी चौकी पर तैनात पुलिस ने वापिस भगा दिया।जिसके बाद बेसहारा मजबूर सैकड़ो मजदूरों ने  मीरापुर में थाने के समीप सड़क किनारे डेरा डाल दिया।सड़क किनारे पड़े भूखे-प्यासे मजदूरों ने ने घर भिजवाने की गुहार लगाई।
      कोरोना के कहर के चलते देश मे लागू किए लॉक डाउन के बाद से विभिन्न राज्यों पँजाब, हरियाणा आदि में रहकर मजदूरी करने वाले हजारों प्रवासी मजदूरों के काम छूट गए।और ठेकेदारो ने भी उन्हें बेहसहारा  छोड़ दिया।ज्यादातर मजदूरों को नोकरी से निकाल दिया गया।साथ ही उनके पैसे भी नही दिए गए।जिसके बाद  उनके मकान मालिकों ने भी आर्थिक तंगी के चलते उनको घर से निकाल दिया। जिसके बाद बेसहारा हुए ये मजदूर हजारों किलोमीटर की दूरी तय करने के लिए पैदल व साईकिलों से अपने घरों के लिए चल पड़े।ऐसे सैकड़ो मजदूर पिछले 10 दिनों से दिन रात भूखे-प्यासे चलकर मीरापुर क्षेत्र से गुजर रहे है।बुधवार को ऐसे ही मजदूरों ने रामराज क्षेत्र में भी घर भिजवाने की मांग को लेकर जाम लगा दिया था।गुरुवार को भी सैकड़ो मजदूरों पैदल मीरापुर से गुजरते हुए बीआईटी पुलिस चौकी से होते हुए अपनी मंजिल की ओर जा रहे थे।किन्तु बीआईटी पुलिस चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने सभी मजदूरों को आगे नही जाने दिया।और उन्हें मीरापुर की ओर वापिस भगा दिया।जिसके बाद ये बेसहारा मजदूर मीरापुर पहुँच गए।और थाने से कुछ दूरी पर दिल्ली-पौड़ी राजमार्ग पर सड़क किनारे डेरा डालकर बैठ गए।इस दौरान बेसहारा मजदूरों ने लोगो से घर भिजवाने की गुहार लगाई।जिस पर स्थानीय नागरिकों द्वारा पुलिस व तहसीलदार को मामले की सूचना दी गयी।किन्तु सड़क किनारे डेरा डाले मजदूरों की मदद के नाम पर अधिकारी एक दूसरे पर टालते नजर आए।सड़क किनारे पड़े बेसहारा मजदूर मदद के लिए गुहार लगाते हुए रहे किन्तु किसी ने उनकी सुध नही ली।मजदूरों ने बीआईटी पुलिस चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों द्वारा गाली-गलौच करने का भी आरोप लगाया।दोपहर बाद मीरापुर पुलिस ने भी इन मजदूरों को मीरापुर से चलता कर दिया।छोटे छोटे मासूम बच्चों व महिलाओं के साथ सफर कर रहे।ये मजदूर बेचारे जाए तो जाए कहाँ।इस मामले पर जब तहसीलदार जानसठ से वार्ता की गई तो उन्होंने भी कोई संतोषजनक जवाब नही देते हुए मामले को पुलिस से जुड़ा होना बताकर कन्नी काट ली।