ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत
एक नज़र में मेरठ की दिन भर की खबरे
February 9, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • नेशनल

संजय वर्मा
मेरठ । चौधरी चरण सिंह विश्विवद्यालय परिसर में स्थित मदन मोहन विद्या मंदिर स्कूल में रविवार को भारत विकास परिषद मेरठ मेन की ओर से पर्यावरण बचाओ विषय पर इंटर सदन कला स्पर्धा का आयोजन किया गया।
    इस अवसर पर कई स्कूल कालेजों के बच्चे शामिल हुए। कक्षा एलकेजी से पांचवी तक के 230 बच्चों ने भाग लिया। इस अवसर पर स्कूल के पुरातन छात्र शोभित विवि से असिस्टेंट प्रोफेसर व नेचुरल साइंसेज ट्रस्ट के चेयरमैन प्रियंक भारती ने प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। असिस्टेंट प्रो. प्रियंक इस स्कूल में सन 1992 से लेकर 94 तक शिक्षा ग्रहण की है। मौके पर उन्होंने अपने विचारों से बच्चों को प्रेरित किया। वहीं अतिथियों में परिषद के अध्यक्ष अनुराग व अन्य सदस्य उपस्थित रहे। इसके अलावा प्रधानाचार्य राकेश गुप्ता ने सभी के समक्ष अपने विचार प्रस्तुत किए और इस कला स्पर्धा के बारे में बताया। साथ ही प्रबंधक डॉ. विनोद अग्रवाल, समिष्ठा भाटी, बलबीर कौर, अनुराधा, सुंदरी, जागृति बोहरा, संगीता दोहरे, सीमा गुप्ता, हेमलता आर्य, दीप्ती विश्नोई, अनुराधा, सुंदरी, डबलसिंह आदि रहे।

 

 

 


भराला में सीएए का ग्रामीणों से मनिन्द्र पाल सिंह ने मांगा समर्थन
मेरठ ।।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा संसद में नागरिक संशोधन कानून पारित कराने पर उसके समर्थन के लिये गांव भराला में मिस कार्यक्रम का आयोजन किया गया । जिसकी अध्यक्षता जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन मनिन्द्रपाल सिंह ने की। इस दौरान उन्होनें घर. घर जाकर पप्फलेट वितरित करते हुए लोगों को सीएए के बारे में विस्तार से बताया।
     उन्होने कहा कि देश के प्रधानमंत्री भारतीय धर्म का पालन किया है। बाहर से आये शरणार्थियों की रक्षा करना और उन्हें मौलिक अधिकार देने व उनके हितो की रक्षा करना हमारा धर्म है। उसी का पालन प्रधानमंत्री ने किया है। देश में रहने वाले मुसलमान का देश के संसाधन पर समान अधिकार है। भारतीय कानून सभी के हितों की रक्षा करता है। लेकिन अपराधियों एआतंकवादियों और अलगाववादियों को देश में कोई स्थान नहीं है। उन्होने कहा सीएएस से मुस्लिम समाज को डरने की कतई आवश्यकता नही है। यह कानून उन लोगों के लिये बनाया गया  है। जो अवैध रूप से देश में रहक देश केा चेाट पहुंचा रहे है। इस मौके पर गौतम सिवाच, अमित मुखिया,अंकुर सिवाच, संदीप एडवोकेट, सुंदर चौधरी, उदयवीर सिंह, उपेन्द्र प्रधान, जगपाल सिहं, कैलाश शर्मा, पवन लाला, कैलाश शर्मा , अरूण शर्मा, सतीश, अंजू देवी आदि मौजूद रहे।

 

 

 

जीवन में नैतिक मूल्यों का सही मार्गदर्षन - डॉ0 अंजुल गिरि

मेरठ। दिल्ली-रूडक़ी बाईपास स्थित वेंक्टेष्वरा वल्र्ड स्कूल में रविवार को वािर्षकोत्सव कार्यक्रम कार्यक्रम प्रतिबिंब का आयोजन किया गया। जिसका शुभारम्भ मुख्य अतिथि सुधा भटनागर, कैम्पस डायरेक्टर डॉ राजेश पाठक व प्रधानाचार्या संज्या वालिया द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रजव्लिलत कर किया गया।
     कार्यक्रम में क्रमानुसार गणेश वन्दना, शास्त्रीय नृत्य, प्रतिबिंबित शब्दों के अर्थ पर आधारित कार्यक्रम इंग्लिश विंगलिश जीवन के पांचो तत्व अग्नि, जल, वायु, आकाष व पृथ्वी पर आधारित भिन्न-भिन्न नृत्य व नाटिकाओं का सुन्दर प्रस्तुतिकरण किया गया। छोटे-छोटे बच्चों ने भिन्न-भिन्न पशुुओं व पक्षियों के रूप में अपने प्रस्तुतिकरण द्वारा सभी को चिडिय़ाघर की सैर कराई।वेंक्टेश्वरा वल्र्ड स्कूल में वसुधैव कुटुंबकम् की भावना को अभिग्रहित किया गया है। भारतीय सभ्यता व संस्कृति को ही नहीं अपितु स्पेनिश डांस के माध्यम से पूरे विश्व को एक सूत्र में बांधने का प्रयास किया गया। क्विंस राइवल नाटिका के माध्यम से बताया गया कि बच्चे माता पिता का प्रतिबिंब होते है। माता पिता जैसा आचरण करते है, बच्चे वैसा ही सीखते है। अत: माता पिता को बच्चों को अपना प्रतिद्धंदि ना समझ कर बच्चों का सही मार्गदर्षन करना चाहिए।
मुख्य अतिथि सुधा भटनागर जी ने बच्चों के प्रयास की सराहना करते हुए उन्हें प्रोत्साहित किया। चेयरपर्सन डॉ अंजुल गिरि ने बताया कि माता पिता का प्रथम कर्तव्य है, बच्चों में नैतिक मूल्यों का विकास करना बच्चें अपने माता पिता पर सर्वाधिक विश्वास करते है, इसलिए बच्चों को प्रतिद्वंदी ना समझ कर उनका उचित मार्गदर्शन करें। कार्यक्रम के अंत में टैलेंट हंट में विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया।  इस अवसर पर वेंक्टेश्वरा यूनीवर्सिटी मेरठ परिसर के डायरेक्ट डॉ राजेश पाठक, डॉ आषीश बालियान, अन्जनेय सिंह, डॉ संजय तिवारी, विनय यादव, साक्षी सिंघल, अमरीश बैनीवाल व मीडिया प्रभारी विश्वास राणा उपस्थित रहे। 

 


कर्नल रोहिताश को प्रबंधन शास्त्र में पीएचडी की उपाधि 
वरिष्ठ संवाददाता 
मेरठ ।लेफ्टिनेंट कर्नल रोहिताश कुमार को स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र के कर्मचारियों के बीच व्यावसायिक तनाव और उसके प्रबंधन का विश्लेषण मेरठ मंडल में सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के अस्पतालों का एक अध्ययन  विषय पर किए गए सफल शोध कार्य के आधार पर शोभित विश्वविद्यालय द्वारा प्रबंधन  शास्त्र में पीएचडी की उपाधि   प्रदान की गई है। श्री रोहिताश ने डॉ अशोक कुमार, प्रोफेसरए प्रबंधन विभाग, शोभित विश्वविद्यालय के निर्देशन में अपना शोध कार्य पूर्ण किया।
शोध में पाया गया कि स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र के कर्मचारियों में व्यवसायिक तनाव के कारणों में सबसे महत्वपूर्ण कार्यस्थल पर पर्याप्त आपसी सहयोग ना होना तथा स्वतंत्र रूप से कर्मचारी की क्षमता और अनुभव का उपयोग  न कर पाना है। कर्मचारियों की अपर्याप्त संख्या, चिकित्सा नैदानिक उपकरणों की कमी एवं 8 घंटे से अधिक समय की ड्यूटी  भी तनाव का खास कारण है। शोध में यह भी पाया गया है कि व्यवसायिक तनाव काम की गुणवत्ता, कर्मचारी की उत्पादकता और प्रभावशीलता को भी कम करता है ।व्यवसायिक तनाव के उपचारात्मक तरीकों, तकनीको व प्रबंध करने की रणनीतियों में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण अच्छा वेतन, उदार अवकाश, कर्मचारियों की पेशेवर क्षमता व ज्ञान में वृद्धि तथा चिकित्सा उपकरणों का उच्च मानक का होना पाया गया है ।
श्री रोहिताश कुमार द्वारा किए गए शोध कार्य से आने वाले समय में स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को बढ़ावा देने और भारत सरकार द्वारा लागू की जाने वाली नई योजनाओं को बनाने में मदद मिलेगी।
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अमर प्रकाश गर्गए प्रति कुलपति मेजर जनरल डॉव सुनील चंद्रा तथा प्रबंधन शिक्षा विभाग के डीन प्रोफेसर विशाल विश्नोई ने रोहिताश कुमार को इस सफल शैक्षणिक उपलब्धि के लिए बधाई दी। 

 


दीवान में आईईओ, आईएमओ व एनएसओ का द्वितीय चरण 

मेरठ ।साइंस ओलम्पियाड फाउंडेशन, गुरूग्राम के तत्वावधान में दीवान पब्लिक स्क्ूल में आईईओ आईएमओ व एनएसओ  के द्वितीय चरण का आयोजन किया गया। यह परीक्षा तीन पालियों में सम्पन्न हुई। प्रथम पाली में अग्रेजी आईईओ  की परीक्षा हुई जिसमें 70 परीक्षार्थियों ने भाग लिया। द्वितीय पाली में विज्ञान एनएसओ की परीक्षा हुई जिसमें 133 परीक्षार्थियों ने भाग लिया। तृतीय पाली में गणित आईएमओ की परीक्षा हुई जिसमें 283 परीक्षार्थियों ने भाग लिया। परीक्षा में अंतराष्ट्रीय स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले को 1 लाख रूपये नकद, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले को 50,000 रूपये नकद व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले को 31,000 रूपये नकद पुरस्कार संस्था द्वारा दिया जाएगा। जोनल स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले को 51,000 रूपये नकद, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले को 21,000 रूपये नकद व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले को 11,000 रूपये नकद पुरस्कार संस्था द्वारा दिया जाएगा व चतुर्थ से 25 वे स्थान प्राप्त करने वाले को 1000 रूपये तक के पुरस्कार दिए जाएगे। इस परीक्षा में मेरठ, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, शामली, मवाना व खतौली के 48 विद्यालयों के 486 विद्यार्थियों ने भाग लिया। परीक्षा को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने में निदेशक  एच एम राउत का योगदान अनुपम रहा। परीक्षा के सफल संचालन में विद्यालय के प्रधानाचार्य  एके दूबे - केंद्र अधिक्षक,अजय अरोरा राज्य समंवयक, गौरव भाटिया - समीक्षक व श्री राजीव विग जी प्रभारी रहे।
सृजन चित्रकला में बच्चों ने दिखाई अपनी प्रतिभा

मेरठ । मवाना रोड स्थित शांति निकेतन विद्यापीठ के प्रांगण में रविवार  को चौदहवीं चित्रकला प्रतियोगिता-सृजन का आयोजन किया गया ।प्रतियोगिता का शुभारंभ स्कूल की मुख्य अध्यक्ष कुसुम जैन  ने किया । प्रतियोगिता में विभिन्न स्कूलों के बच्चों ने हिस्सा ले कर पेंटिंग के माध्यम से अपनी प्रतिभा को दर्शाया। 
प्रतियोगिता कक्षा नर्सरी से कक्षा 12 तक के विद्यार्थियों ने भाग लिया ।प्रतियोगिता चार गु्रप में विभाजित की गई ।गु्रप  में कक्षा नर्सरी से कक्षा के तक के विद्यार्थी गु्रप बी में कक्षा 1 से कक्षा 4तक के ए गु्रप सी में कक्षा 5 से 8 तक  व गु्रप डी में कक्षा 9से 12 तक के विद्यार्थियों ने स्वच्छ भारत मिशन ,प्रदूषण ,वैश्विक तापमान ,ग्लोबल वार्मिंग सेव प्लेनट, स्वच्छ भारत ,योग का महत्व आदि मुद्दों पर रंगों के माध्यम से कैनवास पर अपने मनोभावों को ज्वलंत किया। देश-विदेश में अपनी पहचान बनाने वाले प्रसिद्ध चित्रकार चमन सिंह ने मुख्य अतिथि के रूप में बच्चों का उत्साहवर्धन किया । प्रतियोगिता में विजेताओं को नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।   विद्यालय के निदेशक डॉ विशाल जैन प्रधानाचार्या,विभा गुप्ता जी ने सभी विद्यार्थियों का उत्साह वर्धन करते हुए सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर प्रियंका शर्मा, कविता कुशवाहा ,आशिमा त्यागी, ममतेश,दीपा ,डॉक्टर शालिनी त्यागी, मीनू चड्ढा ,पूजा ,रूबी, अवंतिका, इरम,आदि समस्त शिक्षक गण उपस्थित रहे   ।