ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
जमात के 75 लोगों को कवारंटाइन करके भूला प्रशासन
May 14, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • सरधना

 

(अहमद हुसैन)

बार-बार मांग करने के बावजूद भी नहीं भेजा जा रहा जमात के लोगों को वापस
ईद के त्यौहार के चलते जमात के लोगों ने फिर प्रशासन से वापस भेजने की मांग की

सरधना।कोरोना के चलते जमात के लोगों के पॉजिटिव आने के बाद से उनके साथ रह रहे दूसरे जमात के साथियों को प्रशासन क्वॉरेंटाइन करके भूल गया है  एक लंबा अरसा बीतने के बाद भी पुलिस- प्रशासन की ओर से क्वॉरंटाइन किए गए जमात के लोगों को टाइम पूरा होने के बाद भी ग्रीन सिग्नल नहीं मिल पा रहा है ।इस पर पड़ रही भीषण गर्मी और मच्छरों के प्रकोप से जमात के लोग बिलबिला उठे हैं। घर जाने को लेकर वे बार बार प्रदेश वापस लौटने की मांग प्रशासन और स्थानीय लोगों से कर चुके हैं। लेकिन इसे लेकर प्रशासन कतई गंभीर नहीं है। ऐसे में जमात के लोगों के बीच गुस्सा बढ़ता जा रहा है।जिसे लेकर अब जमात के लोगों ने प्रशासन को ईद के त्यौहार के चलते घर भेजने की एक बार फिर से अपील करते हुए गुहार लगाई है।
गौरतलब है कि सरूरपुर क्षेत्र के कस्बा खिवाई में चार मणिपुर व बिहार के जमात के लोग पॉजिटिव आने के बाद से यहां के लगभग 32 लोगों को पहले कस्बे में ही क्वॉरेंटाइन किया गया। जिसके बाद यहां से क्वॉरंटाइन टाइम पूरा करने के बाद इन सभी 20 लोगों को ला कर चौधरी बशीर खां इंटर कॉलेज में क्वॉरेंटाइन करा दिया गया।जबकि बाकि लोगो सुभारती मेडिकल कॉलेज से आइसोलेशन के बाद सरधना के जैन इंटर कॉलेज में क्वारंटाइन क्या हुआ है ।इसके अलावा नानू बुबपुर जसड सुल्तान नगर व कस्बा हर्रा के लगभग 60 अन्य लोग जमात के लोगों को भी प्रशासन ने हर्रा के ही चौधरी बशीर का इंटर कॉलेज में एक जगह क्वॉरंटाइन सेंटर बनाकर सभी को क्वॉरंटाइन किया हुआ है। हालांकि  बात यह  जमात के सभी लोग 14 दिन का अपना क्वॉरेंटाइन टाइम पहले ही दो बार पूरा कर चुके थे। लेकिन बावजूद इसके  अस्थाई जेल में पुलिस-प्रशासन की ओर से जमात के लोगों को फिर से क्वॉरंटाइन करके सजा दे दी गई। जमात के लोगों से जुड़े लोगों ने बताया कि उनके क्वारंटाइन महीने से भी ऊपर हो पूरा हो चुका है। लेकिन बावजूद इसके पुलिस-प्रशासन की ओर से ग्रीन सिग्नल नहीं दिया जा रहा है। जमात के लोगों ने पुलिस-प्रशासन पर जानबूझकर तंग करने का आरोप लगाया कि रमजान के पवित्र महीने में उन्हें जंगल में शहरी और इफ्तारी मे खासी परेशानी होती है। लेकिन पुलिस-प्रशासन इस ओर कोई तवज्जो नहीं दे रहा है। इसे लेकर अब जमात के लोगों में पुलिस प्रशासन के प्रति रोष बढ़ता जा रहा है और गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि ईद के पवित्र त्यौहार  पर उन्हें उनके वापस घर भेज दिया जाए। वरना वे किसी कोई कड़ा कदम उठाने पर मजबूर होंगे। स्थानीय लोग भी एसडीएम सरधना अमित भारतीय से जमात के सजायाफ्ता लोगों को उनके प्रदेशों में भेजने की मांग कई बार कर चुके हैं। लेकिन इस संबंध में एसडीएम अमित कुमार भारतिय की ओर से कोई ठोस जवाब नहीं दिया जा रहा है। लोगों का आरोपा है कि केवल 2 दिन बाद भेजने का भरोसा दिया जाता है। इसे लेकर लोगों में भी पुलिस-प्रशासन के प्रति विश्वास उठता जा रहा है। जमात के लोगों ने एक बार फिर अपील की है कि उन्हें पुलिस -प्रशासन अपने प्रदेशों को वापस जानेदे गौरतलब है कि हर्रा के चौधरी बशीर का इंटर कॉलेज में इस समय बिहार झारखंड असम आदि प्रदेशों के लगभग 75 जमात के लोग क्वॉरंटाइन किए हैं। जाए इस संबंध में थानाध्यक्ष सतीश कुमार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जमात को वापस भेजने का काम प्रशासन का है कि उनका काम केवल सुरक्षा व्यवस्था देखना है। वहीं दूसरी और एसडीएम सरधना अमित कुमार भारतीय से इस संबंध में वार्ता की गई तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया जबकि मुख्य विकास अधिकारी ईशा दोहन से संबंध में बात की गई तो उन्होंने बताया कि  इस संबंध में प्रशासन रणनीति बना रहा है और जल्दी ही दूसरे प्रदेशों की जमात के लोगों को शिफ्ट करा दिया जाएगा।

अहमद हुसैन
True story