ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
खाकी का एक रुख यह भी......
October 29, 2019 • TRUE स्टोरी टीम

मंसूरपुर पुलिस ने बेसहारा परदेसी औरत व उसके दो मासूम बच्चों को दिलाया सहारा। गुवाहाटी निवासी करीब 35 वर्षीय महिला अपने दो मासूम बच्चों के साथ भटकती हुई क्षेत्र के गांव अलियारपुर में पहुंची।और बस स्टॉप के टीन शैड के नीचे कपड़ा बिछाकर बैठ गई।ग्रामीणों ने उसे खाना दिया तो उसने खाना फेंक दिया।और गाली गलौज करने लगी।काफी देर बाद ग्रामीणों ने पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी।एसआई जुगल किशोर शर्मा,कांस्टेबल लॉरेंस, कांस्टेबल बहादुर सिंह,कांस्टेबल मनोज मौके पर पहुंचे और महिला से खाना खाने का आग्रह किया।मगर महिला नहीं मानी,फिर कांस्टेबल लॉरेंस ने महिला का मान मनोव्वल कर कहा कि जब तक तुम अपने बच्चों के साथ खुद खाना नहीं खाओगी तब तक हम भी खाना नहीं खाएंगे,हम भी आज पूरा दिन से भूखे हैं।इस बात पर महिला ने खाना खा लिया।फिर पुलिस ने ग्राम प्रधान को फोन कर मौके पर बुलाया और महिला को ग्राम प्रधान की ओर से कंबल दिलाया गया।रात में महिला किसी के घर पर सोने के लिए राजी नहीं हुई तो गांव के प्रधान, चौकीदार तथा एक अन्य ग्रामीण की रात भर पहरेदारी में महिला को रात भर के लिए छोड़ा गया तथा कहा गया कि सुबह उच्चाधिकारियों के आदेश के बाद इस महिला का कहीं पर इंतजाम कर दिया जाएगा।बात करने से महिला मंदबुद्धि भी लग रही थी।खैर कुछ भी हो इस मामले को लेकर पुलिस की ग्रामीणों ने काफी सराहना की।