ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
कोरोना पोजेटिव से हमें नफरत नहीं हमदर्दी जतानी चाहिए - निज़ाम अंसारी 
May 3, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • सरधना

 

अहमद हुसैन

पूर्व पालिका चेयरमैन  निजाम अंसारी ने कुवारन्टीन के बाद  अस्थाई जेल  भेजे गए  जमात के लोगों को उनके घर भेजे जाने की अपील सरकार से की ।
सरधना, नगर के रेड जॉन से ग्रीन जोन में आने पर पूर्व चेयरमैन निजाम अंसारी ने सभी नगर वासियों का आभार जताया है उन्होंने बताया कि नगर वासियों का पूर्ण सहयोग मिलने पर ही नगर ग्रीन जॉन में पहुंचा है। उन्होंने तबलीगी जमात के लोगों को भी सरकार से राहत दिए जाने की भी अपील की है। पूर्व चेयरमेन निजाम अंसारी ने पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि जिस प्रकार सरकार प्रवासियों को उनके घरों तक पहुंचाने का काम कर रही है यह सराहनीय कदम है इस कदम को दो कदम और आगे बढ़ाते हुए सरकार जमात के लोगों को भी उनके घरों तक पहुंचाने का काम करें ताकि उनके परिवारों भी रमजान और ईद पर अपनों के साथ रह सके। उन्होंने कहा कि पाप से घृणा करो पापी से नहीं कोराना पीड़ित लोगों से घृणा करने की जरूरत नहीं बल्कि उनके लिए दुआ और हमदर्दी करने की आवश्यकता है। कोई भी व्यक्ति जानबूझकर अपनी जान खतरे में नहीं डालना चाहता और कोरोनावायरस तो सीधा मौत के मुंह में ले जाने वाला वायरस है। पूर्व चेयरमेन निजाम अंसारी ने बताया कि नगर में लोक डाउन से पहले छह जमात विभिन्न मस्जिदों में आई थी जिनमें कुल लगभग 69 लोग शामिल रहे है। जमात आंध्र प्रदेश बिहार आसाम बंगाल यूपी के दूसरे जिलों से आई जमात में 58 लोग है। इन के अलावा एक जमात इंडोनेशिया से भी आई हुई थी जो नगर के मोहल्ला आजाद नगर की  मदीना मस्जिद में ठहरी थी। लोक डाउन के बाद इंडोनेशिया की जमात में शामिल 11 लोगों में से 2 लोग को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था।  जिसके बाद सभी सभी लोगों को क्वारंटाइन किया गया और उनकी जांच की गई सभी जमाती नेगेटिव पाए गए। इंडोनेशिया की जमात में शामिल कोरोनावायरस के दोनों लोगों को मेरठ के मेडिकल में भर्ती कराया गया था जहां उपचार के दौरान वह भी ठीक हो गए। उनके साथी सुभारती में क्वारंटाइन किए गए थे सभी लोग ठीक पाए गए। सभी  जमातियों की तीन चरणों में जाँच की जा चुकी है। जमात के 58 लोगों को नगर के आचार्य नमी सागर जैन इंटर कॉलेज में क्वॉरंटीन किया हुआ है। निजाम अंसारी ने सरकार से अपील की है कि सरकार फॉर्मेलिटी पूरी करके उन लोगों को उनके घरों तक पहुंचाने की व्यवस्था कर दे यदि सरकार व्यवस्था नहीं कर पाती तो नगरपालिका को आदेशित करते हुए उन्हें उनके घर तक पहुंचाने का काम कराएं ताकि वे लोग भी अपने परिवार के साथ रहकर रोजे रख सकें और ईद में एक साथ रह सकें। उन्होंने बताया कि नगरपालिका चेयरपर्सन उनकी पत्नी सबीला अंसारी हैं जिनकी देखरेख में क्वॉरेंटाइन किए गए सभी लोगों का पूरा ध्यान रखा गया है सभी को समय पर खाना दिया गया है किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होने दी गई है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार सरकार प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाने का काम कर रही है उसी तरह जमात के लोगों को भी उनके घर तक पहुंचाने का काम करें। पूर्व चेयरमेन निजाम अंसारी ने कहा कि देखा जा रहा है कि कोरोना प्रोजेक्टिव मिलने पर उस व्यक्ति से नफरत की जाने लगती है। उनमे से कई की मौत के बाद  उनके परिवार जनों ने उनके पास तक जाना मुनासिब नहीं समझा और मुस्लिम समाज के लोगों ने उनका अंतिम संस्कार किया यह भाईचारे की मिसाल है। उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस कोई अभिशाप से कम नहीं है कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति से हमें हमदर्दी होनी चाहिए और हमें उसका हौसला बढ़ाना चाहिए ना कि नफरत करनी चाहिए उन्होंने सभी से भाईचारे को मजबूत करने की भी अपील की है। 
-------------
फोटो - निजाम अंसारी (पूर्व चेयरमेन सरधना नगर पालिका )