ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत
कोरोना से बचाव को लेकर जागरुकता सीरीज शुरू, रिक्शा माइकिंग के द्वारा शहर में भ्रमण कर दिया संदेश
March 17, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • स्वास्थ्य


मुजफ्फरनगर। (रविता)
जनपद में कोरोना से बचाव को लेकर मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की ओर से जागरुकता सीरीज शुरू की गई। कोरोना वायरस के संबध में क्या करें क्या ना करे, इसकी जानकारी का प्रचार रिक्शा माइकिंग के द्वारा करवाया । करीब 200 रिक्शा माइकिंग शहर के छोटे-बड़े इलाकों में घूमकर लोगों को जागरुक किया। इसी के साथ लोगों को वायरस से निपटने के लिए घर से लेकर, स्कूल-कॉलेज, ऑफिस के साथ साफ-सफाई रखने और सावधानी बरतने की अपील कर की। इसी कड़ी में घर और बच्चों को लेकर रखी जाने वाली सावधानी बताई गई और कार्यस्थल, समूहों व अस्पतालों में बचाव के तरीके बताएं। साथ ही परिजनों, रिश्तेदारों और मित्रों को जीवनशैली से जुड़ी सावधानियों के बारे में बताएं। पड़ोसियों के साथ मिलकर आपातकालीन स्थिति की योजना बनाएं। बीमारी की स्थिति में संपर्क करने वाले लोगों की सूची बनाएं और साथ के लोगों के साथ साझा करने लिए आग्रह किया।
मुख्य चिकित्साधिकारी प्रवीण चोपड़ा ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन और कई अन्य संगठनों द्वारा कोरोना वायरस से बचने के लिए कुछ खास बचाव के उपाय बताए हैं। 6 वर्ष से कम और 60 वर्ष से अधिक वाले ज्याादा सवाधान रहें। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वायरस से निपटने के लिए साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखने को कहा है। इसके लिए हाथों की सफाई को प्रमुखता दी है और दिन में कम से कम पांच बार हाथ धुलने का सुझाव दिया। डब्ल्यूएचओ ने हाथ को कब और कैसे धुलने का तरीका भी बताया है।
सावधानियां


मुलाकात से बचे


बीमार लोगों से मिलने पर परहेज करें। यदि खुद बीमार हैं तो डॉक्टर से मिलने के अलावा बाहर निकलने से बचें। खांसी और जुकाम होने पर टिश्यू का इस्तेमाल करें। परिजनों के साथ कम बैठें।
घर की चीजों की रोज करें सफाई


घर पर जिन वस्तुओं का रोजाना इस्तेमाल हो रहा है। उनकी सफाई रोजाना करें। कुर्सी, मेज, लाइट के स्विच, दरवाजे और हत्थे को घर के सभी लोग इस्तेमाल करते हैं, इन्हें रोजाना साफ करें।
बीस सेकेंड्स तक साफ करें हाथ
पानी और साबुन का इस्तेमाल करते हुए हाथों को बीस सेकेंड्स तक रगड़कर साफ करें। खाने के पहले और बाद, शौचालय के इस्तेमाल के बाद अवश्य साबुन से हाथ धुलें। ऐसे सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें जिसमें 60 प्रतिशत एल्कोहल हो।
बच्चों के लिए सतर्कता, स्कूल प्रबंधन को करें सूचित
यदि बच्चे को खांसी या जुकाम है तो स्कूल के प्रबंधन को सूचित करें। साथ ही बच्चों के लिए घर पर की जाने वाली प्रैक्टिस और अध्ययन की मांग करें।
समूह से दूर रहने को करें प्रेरित
यदि बच्चा स्कूल जा रहा है तो उसे समूह से परहेज करने के लिए कहें। साथ ही एकल खेल में हिस्सा लेने के लिए प्रोत्साहित करें।