ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
कोरोना वायरस- चीन से आने वालों पर रखी जा रही नजर, जनपद में कोरोना वायरस का कोई केस नहीं : सीएमओ :शासन स्तर से भी हो रही है निगरानी
February 7, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • मुज़फ्फरनगर

(रविता)

मुजफ्फरनगर, 7 फरवरी 2020। मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा. प्रवीण चोपड़ा ने बताया कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर प्रदेश सरकार ने अलर्ट जारी किया है। अभी हाल ही चीन से जनपद में चार लोग वापस आये हैं। उनकी जांच की गयी, जिसमें में इस वायरस का संक्रमण नहीं पाया गया। बावजूद इसके कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य महकमा गंभीर है। केन्द्र व प्रदेश शासन स्तर पर निगरानी हो रही है। उन्होंने बताया जनपद में अब तक 18 लोग चीन से लौटे हैं। चीन से आने वाले लोगों की निगरानी की जा रही है। स्वास्थ्य विभाग पहले ही एडवाइजरी जारी कर चुका है। जिला अस्पताल में अलग से वार्ड बना दिया गया है। चीन से भारत आने वाले लोगों को एयरपोर्ट पर ही सूचीबद्ध कर लिया जाता है। डब्ल्यूएचओ की टीम उसकी निगरानी कर रही है और उसके वायरस प्रभावित नहीं होने की पुष्टि होने पर ही घर भेजा जाता है। 

सीएमओ डा. चोपड़ा ने बताया जिले में कोई कोराना वायरस का केस नहीं है न ही कोई संदिग्ध रोगी अब तक सामने आया है। रामपुरी निवासी एक व्यक्ति जो चीन से लौटा था उसकी जांच का सैंपल भेजा गया था। जो निगेटिव आया है। इसके अलावा जो भी चीन से आ रहा है उसकी स्क्रीनिंग की जा रही है। स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह अलर्ट है। सभी प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों (पीएचसी-सीएचसी) के प्रभारियों को भी निर्देश दिये गए हैं कि यदि कोई भी संदिग्ध रोगी मिले तो उसकी सूचना तुरंत जिला अस्पताल को दी जाए।

जिला अस्पताल में होम्योपैथी डाक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डा. विवेक कुमार ने कहा कि कोरोना के उपचार को लेकर किसी भी उपचार पर एकदम से भरोसा नहीं किया जा सकता। जीन्स एपिडेमिक के आधार पर उपचार का निर्धारण किया जाता है। होम्योपैथी लक्षणों के आधार पर चलने वाली विधा है।

 

बरतें सावधानी : 

कोरोना के लक्षणों में निमोनिया, सर्दी, खांसी, फेफड़ों में सूजन आदि शामिल हैं। यह श्वसनतंत्र को प्रभावित कर सकता है। सावधानी बरतकर इसके खतरे को कम किया जा सकता है।

•  खाने से पूर्व हाथ अच्छी तरह साबुन से धोएं।

•  एक दूसरे से हाथ मिलाने से बचें।

•  खांसते, छींकते समय मुंह पर रुमाल, टिशु पेपर आदि ढकें।

•  मीट या अंडों को अच्छी तरह पकाकर ही खाएं।