ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
लेखपालों ने सरधना SDM पर लगाया उत्पीड़न का आरोप,
December 13, 2019 • TRUE स्टोरी टीम

 तहसील प्रशासन की रीड की हड्डी कहे जाने वाले लेखपालों की नहीं सुन रहा शासन। हर रोज लेखपालों को अपनी मांगों के समर्थन में करना पड़ रहा धरना प्रदर्शन। प्रदर्शन के चलते आम जन का कार्य हो रहा प्रभावित।तहसील प्रांगण में परेशान घूम रहे  लोग। अधिकारी मोन। धरना प्रदर्शन से नाराज अधिकारी कर रहे लेखपालों का उत्पीड़न।
 इसी संदर्भ में आज लेखपालों ने सरधना डीएम अमित भारतीय पर उत्पीड़न का आरोप लगा तहसील परिसर में धरना प्रदर्शन जारी।
सरधना तहसील के लेखपालों ने एसडीएम के खिलाफ खोला मोर्चा ।
 गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ शाखा सरधना द्वारा अपनी 12 सूत्रीय मांगों को लेकर किए जा रहे धरना प्रदर्शन को लेकर नाराज उप जिलाधिकारी ने उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ के अध्यक्ष व सचिव का स्थानांतरण कर दिया है। जिसके चलते लेखपाल संघ में उपजिलाधिकारी अमित कुमार भारतीय के खिलाफ आक्रोश उत्पन्न हो गया। गुरुवार को भी लेखपालों का धरना प्रदर्शन जारी रहा। शुक्रवार को मेरठ कलेक्ट्रेट में धरना प्रदर्शन करने का  निर्णय लिया गया है। 
उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके बताया कि समस्त लेखपालों का एससीपी विसंगति वेतन उच्च करण पेंशन विसंगति मोटरसाइकिल भत्ता पदोन्नति व पदनाम परिवर्तन आदि मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन चल रहा है।उक्त मांगों को लेकर गत 4 वर्षों से बार-बार आंदोलन किया जा रहा है। लेकिन आश्वासन के अलावा आज तक कुछ भी परिणाम सामने नहीं आया है। जबकि माननीय राजस्व परिषद एवं शासन के राजस्व विभाग द्वारा मांगों को जायज मानते हुए संस्तुति की जा चुकी है। लेकिन वित्त विभाग द्वारा बार-बार कुछ ना कुछ आपत्ति लगाकर प्रकरण को लटकाया जा रहा है जिससे लेखपाल आक्रोशित है और लेखपाल संवर्ग में काफी रोष व्याप्त है। सरधना में आंदोलन के चलते उप जिलाधिकारी अमित कुमार भारतीय ने दबाव बनाते हुए उत्पीड़न कार्रवाई प्रारंभ कर दी है। जिसके चलते लेखपाल संघ के तहसील अध्यक्ष मनवीर सिंह व तहसील मंत्री सुरेश शर्मा का स्थानांतरण कर दिया गया है। इस संबंध में लेखपाल संवर्ग ने अनिश्चितकालीन संपूर्ण कार्य बहिष्कार कर दिया। शुक्रवार से लेखपाल कमिश्नरी में धरना प्रदर्शन कर एसडीएम के खिलाफ कार्रवाई की मांग करेंगे। साथ ही भविष्य की योजना बनाते हुए 27 दिसंबर को विधानसभा का घेराव करने का निर्णय लिया गया। धरने में मनजीत शर्मा, उग्रसेन,रामलाल, अनुज कुमार, राकेश कुमार, सुजाता, दिनेश कश्यप, दिनेश सोम, राजकुमार,स्वामी हरिदास, विक्रम सिंह, आदि ने उप जिलाधिकारी पर  आरोप लगाते हुए  इस कार्रवाई को गलत बताया है। 

 अहमद हुसैन
True story