ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
लोगो ने अपने घरों में ही पढ़ी जुमे की नमाज
April 4, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • मुज़फ्फरनगर


नईम चौधरी
मीरापुर।कोरोना वायरस को लेकर प्रशासन व उलेमाओं की अपील के बाद तब्लीगी जमात को लेकर हुई पुलिस की सख्ती के बाद कस्बे व ग्रामीण क्षेत्र में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने अपने घरों पर ही  नमाज अता की।इस दौरान अधिकांश मस्जिदों के  जिम्मेदार लोगों ने मस्जिदों में आम लोगों की आवाजाही बन्द  रखी।मस्जिदों में केवल इमामों, मुअज्जिन व मुतवलियो ने नमाज अता की।पुलिस भी नमाज को लेकर लगातार मस्जिदों की निगरानी करती रही।

कोरोना वायरस के चलते हुए लॉक डाउन के दौरान भी तब्लीगी जमात में शामिल लोगों के कोरोना पोजेटिव मिलने से जहाँ पूरे देश मे हड़कम्प मचा हुआ है।वही प्रशासन जुम्मे की नमाज को मस्जिदों में नही अता करने को लेकर लगातार उलेमाओं व मस्जिद के जिम्मेदार लोगों से सम्पर्क में जुटी रही। मस्जिदों में लोगों की आवाजाही के कारण गुरुवार को प्रशासन व मुस्लिम उलेमाओं ने मुस्लिम समुदाय के लोगों से जुम्मे की नमाज अपने घरों में ही पढ़ने की अपील की थी ।इमाम व मस्जिद के मुअज्जिन, मुतवल्ली लगातार मस्जिदों से अनाउंसमेंट कर मुस्लिम समुदाय के लोगों से यह अपील कर रहे थे। वही तब्लीगी जमात प्रकरण के प्रकाश में आने के बाद पुलिस ने भी सख्ती के साथ मुस्लिम समाज के लोगों जुम्मे की नमाज लोगों से घर मे ही रहकर पढ़ने को कहा था।जिसके चलते शुक्रवार को मुस्लिम समुदाय ने पुलिस प्रशासन की इस अपील को स्वीकार करते हुए जुम्मे की नमाज मस्जिदों में न पढ़कर अपने घरों में ही पढ़ी।केवल मस्जिदों के इमामों, मुअज्जिन व मुतवलियो ने मस्जिदों में ही नमाज अता की।मस्जिदों के इमामों ने पुनः शुक्रवार की सुबह ही अनाउंसमेंट कर दिया था कि कोई भी व्यक्ति मस्जिद में ना आये।इसकेB मस्जिदों पर गश्त करती रही।