ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
लॉक डाउन का उलंघन करने पर जानसठ व मीरापुर पुलिस ने दर्जनो लोगों   के विरुद्ध 188 का मुकदमा दर्ज कर होम डिलीवरी चालू की
April 5, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • मुज़फ्फरनगर


नईम चौधरी
जानसठ/मीरापुर।लॉक डाउन को गंभीरता से नही लेने वालों पर पुलिस ने कार्यवाही करते हुए छह युवकों के विरुद्ध धारा 188 के तहत मुकदमा दर्ज किया है।व पाँच दुपहिया वाहनों को सीज किया है।कोरोना वायरस से लड़ाई में बार बार सहयोग की अपील करने के बाद भी लोग देश मे लागू लॉक डाउन को गंभीरता से नही ले रहे है।ऐसे लोगों के विरुद्ध प्रशासन के निर्देशानुसार मीरापुर पुलिस ने सख्ती अपनानी शुरू कर दी है।इस के चलते शुक्रवार की शाम मीरापुर पुलिस ने बिना किसी जरूरी कारण के लॉक डाउन का उलंघन सड़क पर घूम रहे लोगों पर जमकर कार्यवाही की।पुलिस ने गश्त के दौरान लॉक डाउन के बावजूद ग्राम भुम्मा में सड़कों पर घूम रहे  छह युवकों रियासत पुत्र शराफ़त, अज़ीम पुत्र सलीमुद्दीन, वहीद पुत्र रशीद,शराफ़त पुत्र रियाजुद्दीन, फरमान पुत्र नन्हा तथा खालिद पुत्र भूरा निवासीगण ग्राम भुम्मा के विरुद्ध धारा 188 के अन्तर्गत मुकदमा दर्ज कर लिया है।वही पुलिस ने पाँच दुपहिया वाहनों को भी सीज किया है।मीरापुर इन्स्पेक्टर एच एन सिंह ने बताया कि अब ऐसे लोगों पर मुकदमा दर्ज होने के बाद लॉक डाउन के बाद उन्हें जेल भेजा जाएगा।
जानसठ पुलिस ने लॉक डाउन का उल्लंघन करने वाले लोगों के विरुद्घ मुकदमा दर्ज करके उनके मकानों पर एफआईआर की कॉपी चस्पा कर दी है। 
शनिवार को पुलिस ने जानसठ क्षेत्र के मोहित कुमार पुत्र धर्मसिंह, विनित कुमार पुत्र राजपाल सिंह, इरफान पुत्र रमजानी, आलम पुत्र इशरत अली, शदाकत पुत्र रियासत, प्रदीप पुत्र मलखान, दीन मोहम्मद पुत्र आस मोहम्मद, अशरफ पुत्र अब्दुल हमीद, सराफत पुत्र वासद अली, सलमान पुत्र हसन अली, रिहान पुत्र वकील के विरुद्घ लॉक डाउन का उल्लंघन की धारा 188 आईपीसी के तहत मुकदमा पंजीकृत किया है। पुलिस ने इन लोगों के विरुद्घ किए गए मुकदमे की एफआईआर की कॉपी भी इनके मकानों पर चस्पा की गई है। इंस्पेक्टर योगेश शर्मा का कहना है कि लॉक डाउन का सख्ती से पालन कराया जाएगा। जो भी व्यक्ति लॉक डाउन का उल्लंघन करेगा। उसके विरुद्घ मुकदमा दर्जकर एफआईआर की प्रतिलिपि उसके मकान पर भी चस्पा की जाएगी। लॉक डाउन का उल्लंघन करने वाले लोगों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा।