ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
मंच ने शिविर लगाकर भरवाए स्नातक वोट के फॉर्म
November 17, 2019 • TRUE स्टोरी टीम

 

स्नातक निर्वाचन क्षेत्र एमएलसी चुनाव की तैयारियां जोरों पर है,अपने अपने क्षेत्र में वोटर  बनाने को लेकर संस्थाएं वोट बनवाने के लिए कर रही प्रयास। इसी संदर्भ में आज क्षेत्र की अग्रणी संस्था विद्यार्थी विकास मंच के पदाधिकारियों ने स्नातक मतदाता जागरूकता शिविर का आयोजन किया। इस शिविर में लगभग 200 लोगों ने अपने  वोट बनवाने हेतु आवेदन किया। शिविर का उद्घाटन डॉक्टर शादाब रहमान व मुख्य अतिथि के रुप में पधारे वरिष्ठ समाजसेवी हाजी अकबर चौधरी ने विधिवत  संयुक्त रूप से फीता काटकर किया। उद्घाटन के पश्चात विद्यार्थी विकास मंच के अध्यक्ष फैयाज अहमद तथा दीपक शर्मा, जावेद अंसारी, रिहान मलिक, ने मुख्य अतिथि चौधरी अकबर तथा उद्घाटन कर्ता डॉक्टर शादाब रहमान को स्मृति चिन्ह तथा शॉल देकर सम्मानित किया।इस अवसर पर बोलते हुए शिक्षक नेता दीपक शर्मा ने बताया कि  परिषद के चुनाव में सीटों का निर्धारण कई आधारों पर किया जाता है। इनमें से एक आधार पढ़ाई भी है। पढ़ाई के आधार वाली सीट पर सिर्फ ग्रैजुएट या उससे ऊपर के डिग्री होल्डर ही वोट डाल सकते हैं। इन चुनावों की वोटर लिस्ट एमपी-एमएलए की मतदाता सूची से काफी अलग होती है। फिलहाल जिले में मेरठ खंड की स्नातक सीट के चुनाव के लिए वोटर लिस्ट बनाने की प्रक्रिया चल रही है।शहर में रहने वाले जिन्होंने देश की किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रैजुएशन किया हो, वे इस लिस्ट में आज  शिविर के माध्यम से फार्म भर अपना नाम दर्ज करवा सकते हैं। इसके अलावा वोट बनवाने के लिए  www.upceo.nic.in पर क्लिक करके एमएलएसी का फॉर्म नंबर 18 डाउनलोड करना होगा। इसके बाद फोटो समेत फॉर्म भरकर और उसके साथ ग्रैजुएशन डिग्री या फाइनल ईयर की मार्कशीट की फोटोकॉपी और एड्रेस प्रूफ की फोटोकॉपी लगाकर जमा करानी होगी। कार्यक्रम का संचालन समाजसेवी रेहान अहमद मलिक ने किया। शिविर में मुख्य तौर पर वीरेंद्र चौधरी, अध्यक्ष उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल, जितेंद्र पांचाल, राष्ट्रीय अध्यक्ष पर्यावरण धर्म समिति, मनमोहन त्यागी, ललित गुप्ता उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल, समाजसेवी जीशान कुरैशी, राशिद अल्वी, वैश्य मंच अध्यक्ष शैलेंद्र गुप्ता शावेज अंसारी आदि मौजूद रहे.

अहमद हुसैन 
True story