ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत
फरवरी में आठ मरीज कुष्ठ से मुक्त हुए, विभाग चला रहा लगातार जागरूकता कार्यक्रम- डा. दोहरे
March 4, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • स्वास्थ्य

संजय वर्मा
नोएडा। जनपद गौतमबुद्ध नगर में फरवरी माह में कुष्ठ रोग से पीड़ित आठ मरीज रोग मुक्त हो गये। वर्तमान में जनपद में 88 लोगों का इलाज चल रहा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अनुराग भार्गव ने बताया कुष्ठ रोग के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए विभाग लगातार कार्यक्रम चलाता रहता है। इसके साथ ही विभाग द्वारा चिन्हित कुष्ठ रोगियों को नियमित दवा उपलब्ध करायी जाती है। उन्होंने बताया इस माह आठ मरीज कुष्ठ रोग से मुक्त हो गये। इनमें तीन पीबी (पॉसी बैसीलरी) और पांच एमबी (मल्टी बैसीलरी) के हैं। पीबी के मरीज को छह माह और एमबी के मरीज को एक साल नियमित दवा खानी होती है। सही इलाज से कुष्ठ रोग पूरी तरह खत्म हो जाता है।
जिला कुष्ठ रोग अधिकारी डा. सुनील दोहरे ने बताया गांधी जयंती 30 जनवरी से 13 फरवरी तक स्पर्ष कुष्ठ रोग पखवाड़ा मनाया गया। ‘कुष्ठ के विरुद्ध, आखिरी युद्ध’। इस अभियान की थीम थी। अभियान के दौरान लोगों को कुष्ठ रोग के प्रति जागरूक किया गया। इसके लिए आशा, एएनएम व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के द्वारा पोस्टर व पम्पलेट्स वितरित किए गये। पम्पलेट्स पर कुष्ठ रोग के लक्षण तथा जांच व इलाज के बारे में पूरी जानकारी दी गयी। इसमें बताया गया कि कुष्ठ रोग छूने से या रोगी के पास बैठने से नहीं होता। उन्होंने बताया अभियान के दौरान विभाग की टीम ने घर-घर जाकर लक्षणों की जांच की। डा. दोहरे ने बताया अगर किसी भी व्यक्ति में कुष्ठ रोग के लक्षण पाए जाते हैं तो उसका नाम रजिस्टर में अंकित करके उसे जांच के लिए भेजा जाता है। जांच के बाद अगर कुष्ठ रोग सामने आता है तो उसको कुष्ठ की निशुल्क दवा तब तक दी जाती है, जब तक उसका कुष्ठ रोग ठीक न हो जाए। उन्होंने बताया फरवरी में 11 नये रोगी चिन्हित किये गये। इनमें एक पीबी व दस एमबी के मरीज हैं। इनमें चार महिलाएं व सात पुरूष हैं। इनमें कोई भी मरीज स्थानीय निवासी नहीं है। सभी अन्य जिलों से यहां आकर बसे लोग हैं। डा. दोहरे ने बताया वर्तमान में जनपद में 88 मरीजों का इलाज चल रहा है। इनमें 16 पीबी व 72 एमबी के मरीज हैं।
स्पर्श कुष्ठ रोग अभियान में हेल्थ एजूकेटर सुशील कुमार, नॉन मेडिकल सुपरवाइजर (एनएमएस) मुकेश चंद्र शर्मा, आनंद कुमार पांडेय, प्रमोद कुमार राय, नॉन मेडिकल असिस्टेंट टीपी सिंह, गोरखशाह विभाग की टीम में विशेश रूप से सक्रिय रहे।


Hide quoted text


---------- Forwarded message ---------
From: ashish raj <rajkula46@yahoo.com>
Date: Wed, 4 Mar 2020, 16:27
Subject: कुष्ठ रोगी
To: Bijendra Awasthi <bijendra.awasthi@gmail.com>, Meerut Division <meerut@cfar.org.in>, Sanjay Verma <vsanjay166@gmail.com>, Dhiraj Dhillon <dhirajdhillon@gmail.com>, rashtriyapahal@gmail.com <rashtriyapahal@gmail.com>, Deepankar Jain Jain <deepankarjain2008@gmail.com>, Jagdish Sharma <sharmajagdish6006@gmail.com>, Ashish Dubey <akd2021@gmail.com>, CHARAN SINGH RAJPUT <charansraj12@gmail.com>, Vinay Joshi <journalistvinay.joshi@gmail.com>, iltejausmani@gmail.com <iltejausmani@gmail.com>, Vikash Rajput <vikash.rajput91@gmail.com>, Narendra Yadav <narendrakry@gmail.com>

 

फरवरी में आठ मरीज कुष्ठ से मुक्त हुए
विभाग चला रहा लगातार जागरूकता कार्यक्रम- डा. दोहरे
नोएडा, 4 मार्च 2020। जनपद गौतमबुद्ध नगर में फरवरी माह में कुष्ठ रोग से पीड़ित आठ मरीज रोग मुक्त हो गये। वर्तमान में जनपद में 88 लोगों का इलाज चल रहा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अनुराग भार्गव ने बताया कुष्ठ रोग के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए विभाग लगातार कार्यक्रम चलाता रहता है। इसके साथ ही विभाग द्वारा चिन्हित कुष्ठ रोगियों को नियमित दवा उपलब्ध करायी जाती है। उन्होंने बताया इस माह आठ मरीज कुष्ठ रोग से मुक्त हो गये। इनमें तीन पीबी (पॉसी बैसीलरी) और पांच एमबी (मल्टी बैसीलरी) के हैं। पीबी के मरीज को छह माह और एमबी के मरीज को एक साल नियमित दवा खानी होती है। सही इलाज से कुष्ठ रोग पूरी तरह खत्म हो जाता है।
जिला कुष्ठ रोग अधिकारी डा. सुनील दोहरे ने बताया गांधी जयंती 30 जनवरी से 13 फरवरी तक स्पर्ष कुष्ठ रोग पखवाड़ा मनाया गया। ‘कुष्ठ के विरुद्ध, आखिरी युद्ध’। इस अभियान की थीम थी। अभियान के दौरान लोगों को कुष्ठ रोग के प्रति जागरूक किया गया। इसके लिए आशा, एएनएम व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के द्वारा पोस्टर व पम्पलेट्स वितरित किए गये। पम्पलेट्स पर कुष्ठ रोग के लक्षण तथा जांच व इलाज के बारे में पूरी जानकारी दी गयी। इसमें बताया गया कि कुष्ठ रोग छूने से या रोगी के पास बैठने से नहीं होता। उन्होंने बताया अभियान के दौरान विभाग की टीम ने घर-घर जाकर लक्षणों की जांच की। डा. दोहरे ने बताया अगर किसी भी व्यक्ति में कुष्ठ रोग के लक्षण पाए जाते हैं तो उसका नाम रजिस्टर में अंकित करके उसे जांच के लिए भेजा जाता है। जांच के बाद अगर कुष्ठ रोग सामने आता है तो उसको कुष्ठ की निशुल्क दवा तब तक दी जाती है, जब तक उसका कुष्ठ रोग ठीक न हो जाए। उन्होंने बताया फरवरी में 11 नये रोगी चिन्हित किये गये। इनमें एक पीबी व दस एमबी के मरीज हैं। इनमें चार महिलाएं व सात पुरूष हैं। इनमें कोई भी मरीज स्थानीय निवासी नहीं है। सभी अन्य जिलों से यहां आकर बसे लोग हैं। डा. दोहरे ने बताया वर्तमान में जनपद में 88 मरीजों का इलाज चल रहा है। इनमें 16 पीबी व 72 एमबी के मरीज हैं।
स्पर्श कुष्ठ रोग अभियान में हेल्थ एजूकेटर सुशील कुमार, नॉन मेडिकल सुपरवाइजर (एनएमएस) मुकेश चंद्र शर्मा, आनंद कुमार पांडेय, प्रमोद कुमार राय, नॉन मेडिकल असिस्टेंट टीपी सिंह, गोरखशाह विभाग की टीम में विशेश रूप से सक्रिय रहे।