ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं नगरीय स्वास्थ्य केन्द्रों में हर रविवार को आरोग्य स्वास्थ्य मेले का होगा आयोजन
December 27, 2019 • TRUE स्टोरी टीम

 

(रविता)

मुजफ्फरनगर। अगले वर्ष फरवरी माह से जनपद में प्रत्येक रविवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं नगरीय स्वास्थ्य केन्द्रों में हर रविवार को आरोग्य स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जाएगा। प्रदेश के मुख्यमंत्री के निर्देश पर मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने यह आदेश सूबे सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को दिया है। मुख्य सचिव के आदेश के अनुपालन में स्वास्थ्य मेले आयोजित करने का निर्देश मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. पीएस मिश्रा ने सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र प्रभारियों को दिया है।

प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की ओर से 24 दिसम्बर को भेजे गये पत्र में कहा गया है कि प्रदेश के सभी नागरिकों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए आवश्यक है कि स्वास्थ्य सुविधाओ को उनके समीप पहुंचाया जाए। रोगों की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए लोगों को जागरूक किया जाए तथा उपचार का बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए रोगों को उनकी प्रारंभिक अवस्था में ही चिह्नित किया जाए। इसी उद्देश्य से मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने प्रदेश के समस्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में हर रविवार को आरोग्य स्वास्थ्य मेला आयोजित किये जाने के निर्देश दिये हैं। यह मेले 2 फरवरी 2020 से आयोजित किये जाएंगे। यह मेले चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार क्ल्याण विभाग, चिकित्सा शिक्षा एवं आयुष विभाग की ओर से संयुक्त रूप से आयोजित किये जाएंगे। चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार क्ल्याण विभाग इसका नोडल विभाग होगा। मेले में गर्भावस्था एवं प्रसव कालीन परामर्श, संस्थागत प्रसव संबंधी जागरूकता, जन्म पंजीकरण परामर्श, नवजात शिशु स्वास्थ्य सुरक्षा परामर्श एवं सेवाएं,  पूर्ण टीकाकरण परामर्श एवं सेवाएं, परिवार नियोजन संबंधी परामर्श एवं सुविधाएं दी जाएंगी।  बच्चों में डायरिया एवं निमोनियां की रोकथाम-बचाव एवं उपचार की जानकारी एवं सुविधाएं दी जाएंगी। मेले में तम्बाकू सेवन को रोकने के लिए जागरूकता, तम्बाकू छोड़ने में सहायता के उपाय बताए जाएंगे।  इसके अलावा  सभी जांच जो इन केन्द्रों पर संभव होंगी, की जाएंगी। जिन जांचों को पीएचसी स्तर पर करना संभव नहीं है उन्हें उच्चस्तरीय इकाइयों में भेजा जाएगा।