ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
रामघाट थाने के दारोगा यशपाल सिंह को 20 हजार रूपये रिश्वत लेने के आरोप में निलंबित
April 20, 2020 • TRUE स्टोरी टीम • राज्य

बुलन्दशहर (शब्बीर अहमद सैफी): वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने  रामघाट थाने के दारोगा यशपाल सिंह को 20 हजार रूपये रिश्वत लेने के आरोप में निलंबित कर दिया। पीड़ित आशीष अग्रवाल का कहना है कि लॉक डाउन के कारण बीते कई दिनों से उसकी दुकान बंद थी। सुबह वह अपने भाई की परचून की दुकान पर बैठे थे तभी वहां पुलिस जीप में आए दारोगा यशपाल ने उसे थाने चलने के लिए कहा। दरोगा का कहना है कि वह गुटख़े की कालाबाजारी कर रहा है। दरोगा ने उसे पुरे दिन बिठाये रखा। शाम को दरोगा ने बीस हजार की रिश्वत लेकर छोड़ दिया। जबकि दस हजार रूपये बाद में देने के लिए कहा। पीड़ित ने सांसद व विधायक को मामले से अवगत कराने के साथ ही एसएसपी को भी शिकायत की। एसएसपी ने मामले का संज्ञान लेते हुए जाँच एसपी देहात हरेंद्र सिंह को सौंप दी। एसपी देहात ने जाँच में पाया कि प्रथमदृष्टया मामला सही है। एसएसपी ने तत्वरित कार्यवाही करते हुए दरोगा को निलंबित करने के आदेश दिए। वहीं दूसरा मामला बुलन्दशहर नगर क्षेत्र का है जहाँ चौकी प्रभारी को पारिवारिक विवाद  के मामले में रिश्वत लेने के आरोप में लाइन हाजिर किया गया। डिप्टी गंज पुलिस चौकी प्रभारी पर आरोप है कि नगर के टाइल्स व्यापारी से पारिवारिक विवाद के मामले में केस में फ़ाइनल रिपोर्ट लगाने के नाम पर रिश्वत वसूली। मामला उच्च अधिकारियो तक पहुँचने पर चौकी प्रभारी ने रिश्वत में रूपये लौटा दिए। इस मामले में चौकी प्रभारी पर आरोप है कि टाइल्स व्यापारी का अपनी पुत्रवधु से विवाद चल रहा था जिसमे फाइनल रिपोर्ट लगाने के नाम पर तीस हजार रूपये ले लिए। टाइल्स व्यापारी ने कोतवाली पहुँचकर कोतवाली प्रभारी अरुणा राय को सारे मामले की जानकारी दी। कोतवाली प्रभारी ने पूरे प्रकरण की जानकारी एसएसपी को दी। एसएसपी को शिकायत पहुचने पर चौकी प्रभारी ने टाइल्स व्यापारी को तीस हजार रूपये लौटा दिए। एसएसपी ने प्रारंभिक जांच में आरोप सही पाए और चौकी प्रभारी को लाइन हाजिर करते हुए उनके स्थान पर बीबी नगर थाने के उपनिरीक्षक विकास अग्निहोत्री को डिप्टी गंज चौकी के नए प्रभारी नियुक्त किए गये हैं।