ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
सरधना के रुहासा में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने की 20 लोगों की जाँच
May 17, 2020 • TRUE स्टोरी टीम

 

(अहमद हुसैन)

 
सरधना  गांव रुहासा प्रधान के मोबाइल पर डाउनलोड हुए आरोग्य सेतु एप पर रेड सिग्नल आने पर गांव में हड़कंप मच गया। जिसके बाद ग्राम प्रधान ने ग्रामीणों के साथ मिलकर कोरोना पोजेटिव व्यक्ति का पता लगाने का प्रयास किया तो उनकी जानकारी में आया कि महाराष्ट्रा के कुछ लोग गांव के निकट ईदगाह के पास आकर डेरा डालकर रुके हैं। चार लोगों से के अन्य राज्यों से आने की भी जानकारी ग्राम प्रधान को मिली। जिसके बाद ग्राम प्रधान ने स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी दी। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव में पहुंचकर 20 लोगों की जांच की जो नॉर्मल पाए गए। जिसके बाद ग्रामीणों ने राहत की सांस ली। जिसके बाद ग्राम प्रधान के मोबाइल पर भी ग्रीन सिग्नल आ गया। संभावना जताई गई कि उस समय कोई कोरोन पोजेटिव व्यक्ति गांव से होकर गुजरा हो। 
 जानकारी के अनुसार रुहासा के ग्राम प्रधान सईद अख्तर के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड किया हुआ है। रविवार की सुबह लगभग 9 बजे सईद अख्तर के मोबाईल पर रेड सिग्नल आगया और उसने एक किलोमीटर के दायरे में कोरोना पोजेटिव का संकेत दिया। जिसके बाद ग्राम प्रधान ने गांव के कुछ जिम्मेदार लोगों को इसकी जानकारी दी कि वह लोग अपने अपने इलाके में बाहर से आने वाले लोगों का पता लगाएं ताकि उस व्यक्ति की जांच कराई जा सके जिसके गांव में आने पर आरोग्य सेतु एप ने संकेत दिया है। गांव के लोग एक्टिव हुए तो पता चला कि गांव की ईदगाह के निकट कुछ लोग जो गांव सरूरपुर भट्टे पर मजदूरी का काम करते हैं उन्होंने आकर डेरा डाला है जो महाराष्ट्रा के रहने वाले बताए गए है। इस दौरान पता चला कि गांव में 4 लोग गोवा हाटी आदि स्थानों से भी गांव में आए हैं। किसी के भी पॉजिटिव होने की आशंका के मद्देनजर ग्राम प्रधान सईद अख्तर ने इस बात की जानकारी सरधना सीएससी प्रभारी डॉ राजेश कुमार को दी जिसके बाद डॉ राजेश कुमार ने डॉक्टर मोहम्मद अली के नेतृत्व में एक टीम गांव रुहासा गांव में भेजी जिन्होंने कुल 20 लोगों की जांच की सभी लोग जांच में सही पाए गए टेंपरेचर नॉर्मल पाया गया। जिसके बाद ग्राम प्रधान के आरोग्य सेतु एप पर भी ग्रीन सिग्नल आगया स्वास्थ्य विभाग की पुष्टि के बाद ग्रामीणों ने राहत की साँस ली। 
-----
अहमद हुसैन
True story