ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
शिक्षको की भर्तियां अटकी, BED के छात्रों को मिलेगा सरकारी कालिजों में पढ़ाने का मौका,डिप्टी CM बनवा रहे प्रस्ताव
November 13, 2019 • TRUE स्टोरी टीम

सूबे में शिक्षको की कमी को दूर करने के लिये सरकार ने एक नया प्रयोग करने का फैसला लिया है।जिसके तहत राजकीय हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों में अब बीएड कॉलेजों के विद्यार्थी भी अध्यापन कार्य करेंगे। इसके बदले माध्यमिक शिक्षा विभाग उन्हें प्रमाण पत्र भी देगा। उप मुख्यमंत्री  डॉ. दिनेश शर्मा ने माध्यमिक शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव आराधना शुक्ला को कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं।उत्तर प्रदेश में 2258 राजकीय हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों में प्रवक्ता के 8458 में से 5318 और सहायक अध्यापकों के 18,491 में से 11440 से ज्यादा पद खाली है। उधर, लोक सेवा आयोग में भी 3,240 प्रवक्ता और 10,768 सहायक अध्यापकों की भर्ती अटकी हुई है। सूबे के स्कूलों में शिक्षकों के पद खाली होने से पाठ्यक्रम समय पर पूरा कराने की समस्या खड़ी हो गई है। गणित, अंग्रेजी और विज्ञान के शिक्षक नहीं होने से विद्यार्थी और अभिभावक चिंतित हैं। बीते दिनों हुई विभाग की समीक्षा बैठक में सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने इस समस्या को प्रमुखता से उठाया।सभी जिलो के  जिला विद्यालय निरीक्षक उनके जिलों में स्थित राजकीय और निजी बीएड कॉलेजों से संपर्क कर विद्यार्थियों को स्कूलों में तैनात करेंगे। बीएड विद्यार्थियों को उनकी सुविधा के अनुसार निकटवर्ती ग्रामीण एवं शहरी स्कूल में छह-छह महीने पढ़ाने के लिए तैनात किया जाएगा। सूबे के शिक्षा विभाग का मानना है कि इससे बिना किसी खर्च के स्कूलों में शिक्षकों की वैकल्पिक व्यवस्था होगी वहीं, बीएड विद्यार्थियों को सरकार से प्रमाण पत्र भी मिलेगा। जिसका लाभ उन्हें आने वाले समय मे सरकारी जॉब अप्लाई करते वक्त मिलेगा।