ALL स्वास्थ्य मुज़फ्फरनगर शामली राज्य नेशनल अपराध सरधना आर्थिक जगत BULANDSHAHAR
वेस्ट में घुला जहर, सुबह -शाम खिड़की दरवाजे बंद रखने की एडवाइस जारी
November 2, 2019 • TRUE स्टोरी टीम

मुज़फ्फरनगर के सी एम ओ डा. पीएस मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि दीपावली पर्व पर हुई आतिशबाजी के कारण जनपद की हवा में प्रदूषण का स्तर अत्यंत बढ़ गया है, जिससे फेफड़ों, हृदय, आंखें, मस्तिष्क को तुरन्त प्रभावित करने वाली कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं बढ़ सकती है। जहरीली हवा के कारण स्वास्थ्य से जुड़ी  तंत्र की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है तथा जिससे ब्रोंकाइटिस, एंपिसेमा और यहां तक की कैंसर जैसी बीमारियां भी हो सकती है तथा फेफड़ों और दिल पर अधिक तनाव पड़ने से शरीर में आॅक्सीजन पहुंचाने की प्रक्रिया बाध्ति हो सकती है।
मुख्य चिकित्सा अध्किारी डा. पीएस मिश्रा ने कहा कि प्रदूषित हवा के कारण स्वास्थ्य से जुड़ी  सब समस्याओं से बचाव के लिए लोगों को सुनिश्चित करना चाहिए कि सुबह-शाम की सैर से परहेज करें, यदि सैर करना जरूरी हो तो मास्क पहनकर ही सैर करें, क्योंकि सुबह और शाम के वक्त हवा में प्रदूषित तत्वों की मौजूदगी सबसे ज्यादा रहती है। उन्होंने कहा कि लोगों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि घर खिड़की और दरवाजे सुबह और शाम बंद ही रखें तथा घर में हवा के आवागमन के लिए दोपहर में 12 बजे से लेकर शाम के 4 बजे तक ही दरवाजे और खिड़कियां खोले, जिससे घर के भीतर वायू प्रदूषण न हो और रसोई में चिमनी और बाथरूम में एक्जाॅस्ट पंखे का प्रयोग करें। उन्होंने बताया कि जो लोग व्यायाम करते हो, वे  एरोबिक कसरत न करें क्योंकि इस दौरान शरीर को ज्यादा आॅक्सीजन की जरूरत पड़ती है। इससे श्वांस की  बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि शरीर में पानी की कमी न होने दें और पफल सब्जियों के जूस के साथ ही ज्यादा से ज्यादा पानी पीयें और परिवार में किसी को भी श्वांस सम्बन्धी बीमारी होने पर शीघ्र ही चिकित्सकों से परामर्श लें और आवश्यकता अनुसार इनहेलर, नेबूलाइजर और दवाईयों का प्रयोग करें। वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने में अपना सहयोग दें। पटाखे, लकड़ी, पत्तियां, कूड़ा व प्लास्टिक इत्यादि न जलायें। बीडी, सिगरेट एवं तंबाकू युक्त पदार्थों का सेवन व धुंआ न करें।